बेंगलुरू

बेंगलुरू महानगर मेंनकाब से झांकती आंखों सेदिखता है आज भीवही अपनापन वही मुस्कुराहट चौड़ी सड़कें अब भीआवारा बादलों की तरह घूमती रहती निरंतर अपने गंतव्य की ओर अपार्टमेंट की ऊंचाइयों से सुनाई पड़ती है इसकीसागर-सी गर्जन और गूंज जोदेर रात तक चलती रहती औरबढ़ती ही रहती तेज और तेज थकने पर बस झट सेलेती हैContinue reading “बेंगलुरू”